अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न

अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न

ग्लोबल रिकॉर्डिंग्स नेटवर्क के बारे में

आपके मिशन का उद्देश्य क्या है?

हम परमेश्वर के वचन की सच्चाईयों को अशिक्षित तथा अल्प संख्यक जन समूहों तक प्रभावी रीति से उनकी भाषा में करी गई रिकॉर्डिंग्स के द्वारा पहुँचाना चाहते हैं, जिससे वे यीशु मसीह के शिष्य बन सकें।

भाषाएं कितनी हैं?

किसी के पास इसकी निश्चित जानकारी नहीं है, और यह इस पर भी निर्भर करता है कि आप गिनती में क्या कुछ लेते हैं। ऐथनोलोग (एसआईएल द्वारा निर्मित) 6,912 भाषाओं की पहचान करता है जो लिखित एवं वर्तमान हैं। परन्तु, जब "मातृ भाषा" में ऑडियो वार्तालाप की बात आती है, तो उसी भाषा में प्रयोग होने वाली भिन्नताओं और संबंधित बोलीयों को अलग अलग गिनना आवश्यक है। किसी रिकॉर्डिंग का लोगों द्वारा स्वीकार करने योग्य होने पर उच्चारण का भी प्रभाव पड़ता है।

कुछ अनुमान लगाए गए हैं कि 13,000 से भी अधिक बोलियाँ मौजूद हैं। जीआरएन में हम मोटे तौर पर लगभग 12,000 भाषाओं और बोलियों के होने को मानते हैं. इनमें से 6,000 से अधिक में हमने रिकॉर्डिंग्स कर लीं हैं।

आप क्या करते हैं?

हम बाइबल की बुनियादी शिक्षाओं और कहानियों की रिकॉर्डिंग्स हज़ारों भाषाओं में तैयार करते हैं - अन्ततः पृथ्वी की प्रत्येक भाषा में - सुसमाचार के प्रचार और शिष्य बनाने हेतु। हम साधारण ऑडियो-विज़ुअल कार्यक्रम भी बनाते हैं (सीडी और चित्र पुस्तकों सहित अन्य माध्यम) जो कि लोगों, विशेषकर अनपढ़ लोगों या उन लोगों में प्रयोग के लिए जहाँ केवल मौखिक सन्देश दिया जा सकता है, जिससे वे बाइबल की बुनियादी शिक्षा और सन्देश को समझ सकें। साथ ही हम विशेष प्रयोजन वाली बजाने वाली मशीनें भी बनाते हैं जैसे कि हमारा सेबर हस्त चलित एमपी3 प्लेयर जो किसी ऊर्जा स्त्रोत पर निर्भर नहीं है ये सभी संसाधन मिशनरियों और स्थानीय सुसमाचार प्रचारकों, पास्टरों और शिक्षकों में, और हमारी अपनी टीम के द्वारा संसार भर में वितृत किए जाते हैं।

आप कहाँ कार्य करते हैं?

हमारे कार्य स्थल, दफ्तर और शाखाएं 40 से भी अधिक देशों में हैं। लगभग संसार के सभी देशों में रिकॉर्डिंग बनाई और वितृत की जा चुकी हैं। हमारे केंद्रीय कार्य स्थल और दफ्तर स्थानीय लोगों द्वारा संचालित किए जाते हैं। हमारी प्राथमिकता छोटे और अकसर उपेक्षित समुदाय हैं, और आवश्यकता पड़ने पर हम सुदूर अन्दरूनी स्थानों में स्थित लोगों के पास जाने को भी तैयार हैं।

आप जो करते हैं वह क्यों करते हैं?

इसके अनेक कारण हैं।

  1. सैंकड़ों छोटे समुदायों के पास अपनी मातृ भाषा में बाइबल, या नया नियम या उनके अंश भी उपलब्ध नहीं हैं या बहुत थोड़ी मात्रा में हैं।
  2. संसार के दो तिहाई लोग या तो पढ़ नहीं सकते, या इतनी अच्छी तरह नहीं पढ़ सकते कि बाइबल या परमेश्वर के वचन के किसी भाग को, यदि वह उनकी भाषा में उपलब्ध भी है तो उसका भलि भांति उपयोग कर सकें।
  3. इन में से बहुत से लोग उन "मौखिक समुदायों" के हैं जहाँ आवश्यक जानकारी भिन्न रीति से मौखिक या हावभाव द्वारा आदान-प्रदान की जाती है और जिन में छपी हुई सामग्री का कोई विशेष महत्व नहीं है।
  4. परमेश्वर का वचन यह वायदा करता है कि अन्ततः प्रत्येक देश जाति और भाषा से लोग परमेश्वर के सिंहासन के सामने होंगे।
  5. परमेश्वर, अपने वचन बाइबल के द्वारा, हमें आज्ञा देता है कि सभी लोगों में जाकर सुसमाचार का प्रचार करें और सभी लोगों में से चेले बनाएं।

क्या भिन्न देशों और भिन्न योजनाओं के अन्तर्गत आपके उद्देश्य भी भिन्न होते हैं?

हम अपने रिकॉर्ड करने वालों को प्रोत्साहित करते हैं कि वे लक्षित समुदाय के लोगों की आवश्यकताओं (विशेषकर आत्मिक) का अध्ययन करें और उनकी आवश्यकता के अनुसार सबसे उचित सामग्री तैयार करें। वे यह भी प्रयास करते हैं कि उन तक सन्देश पहुँचाने के सबसे बेहतर तरीके को समझें जैसे कहानियों, गीतों या अन्य किसी विधि के द्वारा। हमारा सदा ही प्रयास रहता है कि और अधिक प्रभावी और उपयोगी रीति से प्रत्येक समुदाय तक उचित सामग्री और संसाधन पहुँचाए जा सकें। इसमें जहाँ तक सम्भव हो पहले रिकॉर्ड करे गए सन्देशों का पुनःमूल्यांकन भी सम्मिलित है।

इन सामग्रियों का उपयोग कौन करता है?

जब रिकॉर्डिंग बना कर जाँच कर ली जाती है, तब अकसर हमारी टीम जहाँ रिकॉर्डिंग की गई थीं वहाँ जाकर उन्हें वितृत करती हैं और सुसमाचार प्रचार के लिए जो कुछ आवश्यक होता है वहाँ वह सब करती हैं। अधिकांशतः ये टीम स्थानीय चर्च, अन्य मिशन और मिशनरियों के साथ मिलकर कार्य करती हैं।

ये रिकॉर्डिंग्स और सेबर प्लेयर काफी कम कीमत पर मिशनरियों तथा चर्चों, पास्टर और सुसमाचार प्रचारकों को उपलब्ध कराए जाते हैं जिससे वे इन्हें अपने सुसमाचार प्रचार तथा शिष्य बनाने की सेवकाई में उपयोग कर सकें।

आप कौन सी तकनीकी का प्रयोग करते हैं?

हमने आरंभ किया था विनयल रिकॉर्ड्स के साथ। फिर कई साल तक कैसेट ही मुख्य माध्यम रहे। अब ऑडियो सीडी ही सबसे अधिक प्रचलित माध्यम है। हमारा नवीन्तम प्रयास है संसार भर में प्रयोग हो रहे करोड़ों मोबाइल फोन्स में अपनी रिकॉर्डिंग्स को ला सकें।

साथ ही, हमारी अधिकांशतः ऑडियो रिकॉर्डिंग्स हमारी वेबसाईट से मुफ्त डाउनलोड के लिए भी उपलब्ध हैं जिन्हें फिर सीडी पर या माईक्रो एसडी कार्ड में डाल कर या फिर ब्लूटूथ के द्वारा मोबाइल फोन्स में वितृत किया जा सकता है। उन समुदायों के लिए जो सुदूर भीतरी भागों में रहते हैं और जहाँ बिजली नहीं है हमारा सुझाव है कि सेबर हस्त चलित एमपी3 बजाने के यंत्र का उपयोग किया जाए।

रिकॉर्डिंग्स के बारे में

जीआरएन की रिकॉर्डिंग्स का मुख्य उद्देश्य क्या है?

मुख्य उद्देश्य है परमेश्वर और उद्धार के बुनियादी सत्य को लोगों को उनकी भाषा में ऐसी रीति से बताया जाए जिसे वे सरलता से समझ सकें। दूसरे शब्दों में, यह सामग्री बुनियादी बाइबल शिक्षाओं, शिष्य बनाने और सुसमाचार प्रचार के लिए उपयोगी है।

क्या वे यीशु की सेवकाई और उद्देश्य के बारे में बताते हैं?

जो "सुसमाचार" एवं "देखो, सुनो और जीओ" श्रंखलाएं हैं उनमें यीशु के जीवन और सेवकाई के बारे में विस्तृत जानकारी है। "जीवित मसीह" श्रंखला मुख्यतः यीशु के जीवन और सेवकाई पर आधारित है। हमारे लेखों के संग्रह में से अनेक लेख यीशु के किसी न किसी कार्य और जीवन से संबंधित हैं।

क्या वे उत्पत्ति से परमेश्वर की उद्धार की संपूर्ण योजना को समझाते हैं?

"सुसमाचार" श्रंखला उत्पत्ति से मसीह के आगमन तक पवित्र शास्त्र का संक्षिप्त विवरण प्रतुत करती है। The "देखो, सुनो और जीओ" कार्यक्रम उत्पत्ति से प्रेरितों के काम तक की बाइबल कहानियों का व्यापक और विषयानुसार क्रमबद्ध प्रस्तुतिकरण है। "जीवन सन्देश" श्रंखला के कई सन्देश भी इसी विषय पर हैं। इन सभी सामग्रियों का उद्देश्य शिक्षा तथा सुसमाचर देना है।

क्या ये अनन्त संबंधी प्रश्नों के भी उत्तर देते हैं?

बहुत से सन्देश जीवन और मृत्यु, उद्धार, न्याय, स्वर्ग और नरक आदि विषयों को भिन्न प्रकार से संबोधित करते हैं। क्योंकि ये सामग्री मुख्यतः 'मौखिक' वाचकों के प्रयोग के लिए बनाई गई है, इसलिए इनके प्रस्तुतिकरण की विधि 'प्रवचन' जैसी नहीं है। शिक्षाएं कथा कहानियों के द्वारा दी जाती हैं।

क्या सन्देश भिन्न आवश्यकताओं के लिए पवित्रशास्त्र के मुख्य अंश प्रदान करते हैं?

हर भाषा में विशिष्ट विषय जैसे बीमारी, मृत्यु, दुष्ट आत्माओं का भय आदि पर उचित लेख चयनित किए गए हैं। "सुसमाचार" कार्यक्रम में मसीही परिवार, 'जादू टोना', चर्च और गवाही देना जैसे विषयों पर भी संक्षिप्त प्रस्तुतिकरण है।

रिकॉर्डिंग्स में पवित्रशास्त्र के अंश हैं या संपूर्ण बाइबल है?

अकसर हम ऐसी भाषाओं में कार्य करते हैं जिनमें पवित्रशास्त्र का अनुवाद उपलब्ध नहीं है। जहाँ पवित्रशास्त्र का अनुवाद हो चुका है वहाँ हम पूरी पुस्तकें या खण्ड रिकॉर्ड कर लेते हैं, सामान्यतः अन्य बाइबल अनुवाद करने वाली संसथाओं के साथ मिलकर। सामान्यतः हम संपूर्ण बाइबल या पूरा नया नियम रिकॉर्ड नहीं करते।

रिकॉर्डिंग्स बुनियादी मसीही सिद्धांतों को कैसे प्रस्तुत करती हैं?

मौखिक समाजों में, पश्चिमी शैली में सिद्धांतों को सिखाना सबसे उपयुक्त विधि नहीं है। बाइबल की कथा कहानियों के प्रयोग द्वारा परमेश्वर के स्वरूप, मनुष्य के स्वरूप, उद्धार इत्यादि की शिक्षा दी जाती है। हमारे पास "व्यवस्थित ईश्वरशास्त्र" रूप में सैद्धांतिक शिक्षा सामग्री नहीं है।

क्या सभी जीआरएन रिकॉर्डिंग्स के लिए कोई सामान्य लेख है?

हमारे पास अंग्रेज़ी और अन्य कई भाषाओं में लेखों का संग्रह है। एक ही नाम वाला कार्यक्रम जैसे कि "सुसमाचार" भाषा की भिन्नता होते हुए भी उसी एक सामग्री को प्रस्तुत करेगा। इस कारण अंग्रेज़ी के लेख को पढ़ने से आपको अच्छा अंदाज़ा हो जाएगा कि उस कार्यक्रम में क्या दिया गया है। लेकिन रिकॉर्डिंग करने वालों को निर्देश दिए जाते हैं कि इन लेखों का ज्यों का त्यों अनुवाद ना करें अन्यथा रिकॉर्डिंग बहुत अस्वाभाविक प्रतीत होगी। ये लेख किसी दूसरी भाषा में उसी बात को बताने के लिए आधार मात्र हैं। कभी कभी लेखों के किसी संग्रह को अन्य भाषाओं में व्यापक रीति से प्रयोग किया गया है। लेकिन, इस बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि जिन समूहों के लिए उसे तैयार किया जा रहा है उनकी आवश्यकताओं के लिए वह कार्यक्रम वास्तव में उपयोगी है कि नहीं।

किसी भाषा में कितनी रिकॉर्डिंगस बनाई जाती हैं?

इसमें बहुत विविधता रहती है। कुछ भाषाओं में जिनमें कई वर्ष पहले रिकौर्डिंग की गईं उनमें थोड़ी सी ही सामग्री उपलब्ध हो सकती है जैसे 15-30 मिनिट तक की ही। थोड़ी सी भाषाओं में 15-20 घंटे की सामग्री भी उपलब्ध है। वर्तमान में, उन जन स्मुदायों के लिए जिनके पास कोई अन्य सामग्री उपलब्ध नहीं है, हम कुछ वर्षों के परिश्रम के द्वारा 8-10 घंटे की सामग्री को तैयार करने का उद्देश्य ले कर चल सकते हैं। कभी कभी जिन भाषाओं में संसाधान उपलब्ध भी हैं उनके लिए कोई विशेष संसाधन को बनाया भी जा सकता है।

सामान्यतः एक रिकॉर्डिंग कितनी देर तक चलती है?

जो "जीवन सन्देश" कार्यक्रम है उस में छोटे सन्देशों और गीतों< की श्रंखलाएं हैं। प्रत्येक सन्देश लगभग 4 मिनिट का होता है। एक पूरा कार्यक्रम 30 से 60 मिनिट तक का हो सकता है। जो "सुसमाचार" कार्यक्रम है वह लगभग 40-50 मिनिट तक ले सकता है, कुछ भाषाओं में यह इससे भी लंबा है। "देखो, सुनो और जीओ" की 8 इकाईयों में से प्रत्येक लगभग 35-45 मिनिट की है। "जीवित मसीह" की संपूर्ण अंग्रेज़ी रिकॉर्डिंग लगभग 2 घंटे की है।

क्या रिकॉइर्डिंग्स को छोटे खण्डों में बाँटा गया है?

जो "जीवन सन्देश" कार्यक्रम है उसे हर 3-5 मिनिट के सन्देश अथवा गीत के बाद रोका जा सकता है। ऑडियो विज़ुअल कार्यक्रम हर चित्र या कहानी बनाने वाले चित्रों के समूह, जैसे नूह की कहानी, के बाद चर्चा के लिए रोके जा सकते हैं।

और अधिक जानकारी प्राप्त करें